Thursday, July 14, 2011

काश दिल में भी एक दिल होता

काश दिल में भी एक दिल होता,
पनप सकते उसमे भी कुछ एहसास,
दिल किसी का तनहा न होता,
हो सकती दिल की दिल से बात,
एक दिल उदास होता,
दूसरा उसपर खुशियाँ लुटाता,
एक टूट भी जाता दर्द से कभी,
दूसरा मरहम लगाता,
खुश होते दोनों
मिलकर जश्न मनाते,
साथ हँसते कभी,
कभी दिल भर के खिलखिलाते,
काश दिल में भी एक दिल होता,
पनप सकते उसमे कुछ एहसास.

7 comments:

  1. सुंदर कल्पना ,दिल की तन्हाई का साथी एक और दिल.

    ReplyDelete
  2. सही कहा काश ऐसा हो पाता....

    ReplyDelete
  3. अच्छे सवालों का कोई जवाब क्यों नहीं देता? आपकी राय मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण है| जरुर पधारें | www.akashsingh307.blogspot.com

    ReplyDelete
  4. wah wah kavi ki nayi kalpna.......science ki simao se paar.

    ReplyDelete
  5. आपको मेरी हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete