Wednesday, March 16, 2011

फेसबुक का चस्का


चस्का चस्का........लगा हैं चस्का चस्का....अरे भाई! मैं बदमाश कम्पनी के गाने को गुनगुनाने के मूड में नहीं हूँ, ये तो मैं उन लोगो के बारे में बात कर रही हूँ जिनको फेसबुक का चस्का लगा हैं. फेसबुक  को इस्तेमाल करने वालो की संख्या जितनी तेज़ गति से बढ़ रही हैं उससे देख कर तो लगता हैं की आने वाले कुछ समय में इन्टरनेट को भी फेसबुक के नाम से जाना जायेगा. आज हर उम्र के लोग फेसबुक से जुड़े हुए हैं. चाहे युवा हो या बुजुर्ग, सबको ही ये सोशल नेटवर्किंग साईट खूब लुभा रही हैं.

लोग एक दूसरे के स्टेटस को लाइक  करते हैं, उसपर कमेन्ट करते हैं, अपने स्टेटस को अपडेट करते हैं, वगेरह वगेरह....तमाम तरह के ऐप्लीकेशंस हैं जिनको इस्तेमाल करके वो घंटो फेसबुक पर बिताते हैं. कुछ समझदार लोग फेसबुक का सकारात्मक इस्तेमाल करते हैं, जैसे- अपनी लिखी किताबो,ब्लोग्स का प्रचार करना, किसी सामाजिक मुद्दे पर लोगो की राय जानना, सामाजिक समस्याओं को दूर करने के लिए चलाये गये मुहिम से लोगो को जोड़ना, वगेरह....और कुछ लोग फेसबुक का इस्तेमाल बस अपने दोस्तों की संख्या बढाने, गेम्स खेलने, बे-मतलब की चैट करने जैसे कामो के लिए करते हैं.

लोगो के स्टेटस अपडेट ( ख़ास कर युवा वर्ग) पढ़ के तो ऐसा लगता हैं की वो अपनी निजी ज़िन्दगी को कितने बेवकूफों की तरह ख़ुशी ख़ुशी बाजारू कर रहे हैं. मैं ये नहीं कहती की अपनी ज़िन्दगी को सबके साथ बाटना गलत हैं, पर ये तो आप लोग भी मानते होंगे की ज़िन्दगी के कुछ एहसास इतने निजी होते हैं की उनको यूँ बाजारू करने से उनके मायने खत्म हो जाते हैं. ऐसे स्टेटस ' i have got my first kiss" , "i am no more virgin" , " i have lost my father" ...इन बातो को फेसबुक  पे लिखने का क्या मतलब बनता हैं? अगर किसी को अपनी जिंदगी का पहला किस मिला हैं तो उसे उसके फ्रेंड्स लाइक करते हैं, कमेन्ट करते हैं उसपर...इतने खूबसूरत एहसास की नुमाइश लगाने का क्या मतलब बनता हैं?  या अगर किसी ने अपनी virginity या father को खोया हैं तो क्या उसको फेसबुक  पे लिखना जायज़ हैं? ऐसे लोग क्या चाहते हैं की लोग उनकी निजी बातो को जानकार उनकी ख़ुशी के साथ दुःख को लाइक कर के उसपर कमेन्ट दे या फिर ऐसे लोग लोगो की सहानुभूति चाहते हैं अपने दुखो पर.....मुझे लगता हैं के ऐसे लोग जितना अधिक समय फेसबुक  पे बिताते हैं वो अपनी निजी ज़िन्दगी में उतने ही तन्हा और कुंठित होते हैं इसलिए ऐसी बचकानी हरकते करते हैं.

कहने को तो ये एक सोशल नेटवर्किंग साईट हैं , जिसके जरिये आप अपने बिछड़े हुए दोस्तों से जुड़ सकते हैं, या कहिये आप अपना सोशल नेटवर्क मज़बूत कर सकते हैं...पर ये मजबूती कहीं न कहीं इस अंतरजाल की दुनिया तक में सिमट के रह जाती सी दिखती हैं. पहले लोग अपनी खुशियों के मौके पर लोगो से मिलते जुलते थे या फ़ोन पर बात करते थे पर अब...किसी भी ख़ुशी, तीज-त्यौहार की बधाई को अपना स्टेटस बनाया और सबसे शेयर कर लिया और हो गया काम खत्म, न मिलना न फोन करना...एक ज़िम्मेदारी थी जो निपट गयी... इससे लोग हर ख़ुशी और गम में अपने दोस्तों और रिश्तेदारों का साथ तो दे देते हैं पर उसमे दिली भावनाए नहीं होती..सिर्फ खोखला दिखावा रह गया हैं..

सिर्फ फेसबुक  पर फोटो टैग करने, दोस्तों के स्टेटस  पे कमेन्ट करने, उनकी वाल पर उनको जन्मदिन की बधाईयाँ देने से उनके दिलो तक नहीं पंहुचा जा सकता...उम्मीद करती हूँ की ४ दिन बाद आने वाले रंगों के त्यौहार पर आप सिर्फ फेसबुक  स्टेटस तक सिमट कर नहीं रह जायेंगे, सभी अपने दोस्तों को अपने होने का एहसास करायेगे और अपनी और उनकी ज़िन्दगी के कुछ पल साथ बिता कर अपने अकेलेपन को कम करेंगे.

11 comments:

  1. ह्म्म्म सही बात कही है आपने फेसबुक का चस्का है ही एसा ! हवे अ गुड डे
    मेरे ब्लॉग पर आये !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se
    Latest News About Tech

    ReplyDelete
  2. बहुत सच कहा है..

    ReplyDelete
  3. फेसबुक....
    आखिर क्या है ये फेसबुक...मुश्किल से ४ या ५ साल पहले से लोकप्रिय हुआ एक अड्डा जहाँ लोग ज़मघट लगाते हैं, एक दूसरे की निजी ज़िन्दगी में झांकते हैं उसपर अपनी टीका-टिपण्णी करते हैं... कई लोग फ्लर्ट करते हैं, अपने फ्रेंड लिस्ट बढ़ाते हैं....
    या फिर दूसरे नज़रिए से कहें तो....
    फेसबुक एक ऐसी जगह जहाँ हम अपना अवसाद कम कर सकते हैं, अपनी खुशियाँ अपने गम बाँट सकते हैं...
    जहाँ हम जापान में आये सुनामी पर दुःख व्यक्त कर सकते हैं. भारत के मैच जीतने या हारने पर अपनी प्रतिक्रिया दे सकते हैं, अपना गुस्सा इस बात पर ज़ाहिर कर सकते हैं कि आखिर अब तक अफज़ल गुरु को फांसी क्यूँ नहीं हुयी....
    आज फेसबुक केवल एक सोशल नेटवर्किंग साईट नहीं है आज वो अपने विचारों को व्यक्त करने का ज़रिया है.... ठीक उसी तरह जैसे ये ब्लॉग..
    कहने को और भी बहुत कुछ है लेकिन लगता है लम्बाई कुछ ज्यादा ही हो गयी है....

    ReplyDelete
  4. अरे हाँ आपके ब्लॉग का लिंक भी अभी फेसबुक से ही मिला है..:हा हा हा...:D

    ReplyDelete
  5. इसीलिये तो मैं इसे थोबड़ा(चेहरा)बुक कहता हूँ। ही ही।

    ReplyDelete
  6. आप को सपरिवार होली की हार्दिक शुभ कामनाएं.

    सादर

    ReplyDelete
  7. aap sabhi ka shukriya...
    aap sabhi ko holi ki shubhakaamnaye..! :)

    ReplyDelete
  8. भारतीय ब्लॉग लेखक मंच की तरफ से आप, आपके परिवार तथा इष्टमित्रो को होली की हार्दिक शुभकामना. यह मंच आपका स्वागत करता है, आप अवश्य पधारें, यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "फालोवर" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . आपकी प्रतीक्षा में ....
    भारतीय ब्लॉग लेखक मंच

    ReplyDelete